महामंत्री को धरना के लिए एसडीएम मझौली ने नहीं दी अनुमति।महामंत्री बोले मजदूरो के रोजगार को लेकर गंभीर नही है एसडीएम,आनंद सिहं ददुआ।

अमित श्रीवास्तव।

सीधी जिले के कुसमी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के महामंत्री आनंद सिंह ददुआ के द्वारा निधिपुरी रेत खदान में जेसीबी से अवैध खनन व लोडिगं का काम किया जा रहा इसकी पूष्टि एसडीएम के द्वारा दो मशीने जप्त करने से हो गयी है,यह क्लीयर हो गया कि रेत खदानो से मशीने लोडिगं का काम कर रही है।वही क्षेत्रीय मजदूरों को रोजगार न देने के विषय पर गंभीरता दिखाते हुए महामंत्री आनंद सिंह ददुआ द्वारा 28 अक्टूबर को धरना प्रदर्शन आंदोलन करने की चेतावनी प्रशासन को दी गई थी।लेकिन उपखंड मजिस्ट्रेट मझौली ने के अनुमति निरस्त कर दिया है। आपको बता दें कि एसडीएम ने अपने पत्र में उल्लेख किया है कि थाना प्रभारी मझौली ने अपने प्रतिवेदन एसडीएम को दिया है कि कोविड-19 कोरोना एवं नव दुर्गा के त्यौहार के चलते ज्यादातर बल ड्यूटी में लगे हैं जिस कारण कानून व्यवस्था के निर्मित होने में पर्याप्त पुलिस बल तत्काल में उपलब्ध नहीं हो पाएगे, इसलिए धरना प्रदर्शन हेतु धरना करने की अनुमति उचित नहीं होगा। क्या एसडीएम ने आकलन कर लिया कि धरना उक्र होगा धरना शान्तिपूर्ण भी होता है,हकीकत बताते चले कि दिनांक 28 अक्टूबर को आनंद सिंह ददुआ के द्वारा आंदोलन करने की अनुमति एस डीएम मझौली से चाही गई थी।और दुर्गा प्रतिमा कि यदि बात करें तो दशहरे 26अक्टूबर के बाद त्यौहार लगभग पूर्ण हो चुके हैं। आपको बता दें कि जहां कोरोना का जिक्र किया गया है उसमें कोरोना को लेकर भी शासन के द्वारा काफी छूट दे दी गई है। इसके बाद भी कांग्रेश को धरना प्रदर्शन न करने की अनुमति से इनकार करना मझौली एसडीएम की एक रणनीति समझ मे आ रही है आपको बता दें कि कांग्रेश महामंत्री के साथ किए गए अभद्र व्यवहार के कारण कहीं ना कहीं एसडीएम मझौली डरे हुए हैं उनको डर है कि आंदोलन कहीं उग्र हो गया तो वह स्वयं जबावदार होगे।सबसे मजे की बात यह है कि एसडीएम के द्वारा लिखे गए इस पत्र में उन्होंने धरना प्रदर्शन नही करने का उल्लेख तो कर दिया है लेकिन इन खदानों में किस तरह से मजदूरो को रोजगार मिलेगा कैसे एसडीएम व्यवस्था बनायेगे और एनजीटी के सारे नियमों का पालन किस तरह से हो पायेगा।मजदूरो को रोजगार मिले यह बडी समस्या को लेकर आनंद सिहं ददुआ आन्दोलन.करने बाले है।आन्दोलन की अनुमति नही देना तो ठीक है मगर एसडीएम साहव मजदूरो को कैसे रोजगार दिला पायेगे आखिर मजदूरो का जिक्र एसडीएम ने पत्र मे क्यो नही किया।यह एक बडा सवाल खडा हो रहा है।लोग आकलन कर रहे है कि जिस तरह आन्दोलन पर्याप्त पुलिश नही होने से अनुमति नही दी जा रही है शायद एसडीएम के पास इतना बल नही है कि वो रेत संचालको से रोजगार दिला सके,मजदूरो के लिये आनंद सिहं ददुआ आन्दोलन कर रहे है।और एसडीम पत्र मे मजदूरो का जिक्र करना तक उचित नही समझ रहे है। ऐसे मे जिला प्रशासन को पर्याप्त बल भेजना चाहिये जिससे कम से कम मजदूरो को रोजगार तो मिल सके।वही आनंद सिहं का कहना है हमे आन्दोलन की अनुमति आवश्यक नही है मजदूरो को एसडीएम रोजगार दे दे रात्रि मे मशीनो से चोरी कराना बंक कर दे यदि मजदूरो को रोजगार एसडीएम नही दिलायेगे तो आन्दोलन अगले डेट पर फिर अनुमति लेकर की जायेगी।

Live Cricket

Related Articles

Back to top button
Close
Close